Hindi

सुबह का नजारा भी क्या खूब है, फिर क्यों मुझसे दूर मेरा महबूब है

सुबह का नजारा भी क्या खूब है, फिर क्यों मुझसे दूर मेरा महबूब है, हमें आती है पल पल आपकी याद, ये आपकी निगाहों का कुसूर है

सुबह का नजारा भी क्या खूब है, फिर क्यों मुझसे दूर मेरा महबूब है
सुबह का नजारा भी क्या खूब है, फिर क्यों मुझसे दूर मेरा महबूब है, हमें आती है पल पल आपकी याद, ये आपकी निगाहों का कुसूर है

सबसे अच्छे सुप्रभात छवियाँ, उद्धरण, वॉलपेपर